Home Hindi

Hindi

ऐसा नहीं है कि हिन्दी में अच्छे ब्लॉग लिखने वालों की कमी है। हिन्दी में लोग एक से एक बेहतरीन ब्लॉग्स लिख रहे हैं। पर एक चीज़ की कमी अक्सर खलती है। जहां ब्लॉग पर अच्छा कन्टेन्ट है वहां एक अच्छी क्वालिटी की तस्वीर नहीं मिलती और जिन ब्लॉग्स पर अच्छी तस्वीरें होती हैं वहां कन्टेन्ट उतना अच्छा नहीं होता। मैं साहित्यकार के अलावा एक ट्रेवल राइटर और फोटोग्राफर हूँ। मैंने अपने इस ब्लॉग के ज़रिये इस दूरी को पाटने का प्रयास किया है। मेरा यह ब्लॉग हिन्दी का प्रथम ट्रेवल फ़ोटोग्राफ़ी ब्लॉग है। जहाँ आपको मिलेगी भारत के कुछ अनछुए पहलुओं, अनदेखे स्थानों की सविस्तार जानकारी और उन स्थानों से जुड़ी कुछ बेहतरीन तस्वीरें।

उम्मीद है, आप को मेरा यह प्रयास पसंद आएगा। आपकी प्रतिक्रियाओं की मुझे प्रतीक्षा रहेगी। आपके कमेन्ट मुझे इस ब्लॉग को और बेहतर बनाने की प्रेरणा देंगे।

मंगल मृदुल कामनाओं सहित आपकी हमसफ़र आपकी दोस्त

डा० कायनात क़ाज़ी

कलरीपायट्टु – प्राचीन भारतीय युद्धकला

Kathakali-centre-Kochin-Kerala-KaynatKazi-Photography-2016-4-of-35-960x636
कलरीपायट्टु - प्राचीन भारतीय युद्धकला फोर्ट कोचीन में ऐसे कई संगठन और केंद हैं जो इस राज्य और नज़दीकी राज्यों में पाई जाने वाली कलाओं के संरक्षण में लगे हैं साथ ही वह इस कला को जीवित रखने के लिए निरंतर प्रयासरत हैं इसी कड़ी में नाम आता है कोचीन सांस्कृतिक केन्द्र Cochin Cultural Centre, यह एक ऐसा स्थान हैं...

केरल का पारंपरिक नृत्य-कथकली

Kathakali-centre-Kochin-Kerala-KaynatKazi-Photography-2016-18-of-35-960x636
केरल जाएं और कथकली नृत्य की प्रस्तुति न देखें ऐसा तो नहीं सकता। और  अच्छी बात है कि इसके लिए आपको अलग से कोई मेहनत करने की ज़रूरत नहीं है। फोर्ट कोच्ची इलाके में ही कई ऐसे संस्थान है जो इस नृत्य कला को प्रमोट करने के लिए कार्यक्रम चलाते हैं और हर शाम इसकी प्रस्तुति की जाती है।...

केरल जाएं तो फोकलोर म्यूज़ियम देखना न भूलें….

Folklore-Museum-Kochin-Kerala-KaynatKazi-Photography-2016-13-of-23-960x636
केरल जाएं तो फोकलोर म्यूज़ियम देखना न भूलें.... Dedicated section for the masks in folklore-museum-Cochin-Kerala जब केरल जाने की तैयारी कर रही थी तो आदत के अनुसार इन्टरनेट पर रिसर्च भी काफी की। केरल का नाम आते ही ज़ेहन में सबसे पहले क्या आता है? समुन्दर ,नारियल के पेड़, कथकली, बेक वाटर्स, टी-गार्डन, मंदिरों के ऊँचे-ऊँचे प्रसाद। सफ़ेद साड़ी और गोल्डन...

वीमेन हुड सेलिब्रेट करें तीज के त्यौहार के साथ पिंक सिटी जयपुर में

Teej-Mata-Sawari-Teej-Jaipur-Kaynat-Kazi-Photography-960x636
वैसे तो दोस्तों जयपुर इतनी सुन्दर जगह है कि किसी भी माह में जाया जा सकता है। लेकिन बरसात के माह है कुछ ख़ास। इस गुलाबी शहर का तिलिस्म हम भारतीयों के अलावा विदेशियों पर भी ख़ूब असर दिखाता है और वह दूर दराज़ से रॉयल राजस्थान की इस गुलाबी नगरी को देखने खिंचे चले आते हैं। यहाँ मई जून...

एक बार एमस्टर्डम ज़रूर जाएँ

Amsterdam-city-Holland-KaynatKazi-Photography-2016-7-of-22
एमस्टर्डम सही माइनों में एक अन्तर्राष्ट्रीय शहर है, यह यूरोप मे स्थित देश नीदरलैंड की राजधानी है, जिसका एक वैभवशाली इतिहास रहा है। एमस्टर्डम  आधुनिक और प्राचीन धरोहर का संगम है, जहाँ एक ओर उँची-उँची इमारतें हैं वहीं युनेसको की विश्व धरोहर-कैनाल रिंग भी यहाँ मौजूद हैं। सन् 2010 में युनेसको ने इसे विश्व धरोहर की सूची(UNESCO World Heritage...

इस मॉनसून क्यों जाएँ ? मिरिक

Mahananda-Wildlife-Sanctuary_Kaynatkazi-photography_North-east_June-2015_Travel-Pics-3-of-21-2
    Mirik town from Hill top    बरसात के मौसम में मिरिक बेहद खूबसूरत और हरा भरा नज़र आता है। अगर आप एडवेंचर के शौक़ीन हैं तो एक बार मिरिक बरसात में ज़रूर जाएं। प्रकृति के बेहद हसीं करिश्मे देखने को मिलेंगे। कभी बादल इतने निचे आजाएगा कि आप उसके बीच से होकर गुज़र जाएँगे। रास्तों में जगह जगह बरसाती झरने आपका स्वागत...

एक रंग होली का ऐसा भी-होला मुहल्ला,आनंदपुर साहिब-पंजाब

Holla-Muhalla-Anandpur-Sahib-Punjab-KaynatKazi-Photography-2016-10-of-10
एक रंग होली का ऐसा भी-होला मुहल्ला,आनंदपुर साहिब-पंजाब  पंजाब डायरी-पहला दिन    Gurudwara @ Holla Muhalla, Punjab चंडीगढ़ की आधुनिक सड़कों को पीछे छोड़ती हुई हमारी कार आनंदपुर साहिब की ओर दौड़ रही है। देश की पहली प्लांड सिटी चंडीगढ़ का वैभव कहीं पीछे छूट रहा है और मैं इंडिया से भारत की ओर खींची चली जा रही हूँ। वह भारत जो देश के छोटे...

एक सोलो ट्रैवलर के हौंसलों की कहानी – महिला दिवस पर विशेष

KaynatKazi@Rann-of-KatchGujrat
महिला दिवस पर विशेष एक सोलो ट्रैवलर के हौंसलों की कहानी.....   तुम लड़की हो, संभल कर रहा करो।  ऊँची आवाज़ में बात नहीं करनी।  नीची नज़र रखा करो।  कंधे झुका कर चला करो।  पांव धीरे रखा करो।  यह मत करो।  वह मत करो।  यह मत देखो।  वह मत पढ़ो।  ज़्यादा हंसना बुरी बात है।  यह कैसे कपड़े पहने हैं?  वगैरा वगैरा...   Kaynat Kazi@Mandarmani Beach   ऐसे कितने ही जुमले सुनते हुए मैं बड़ी हुई।...

पैराग्लाइडिंग का मज़ा लें गैंगटॉक में

Paragliding-Gangtok-KaynatKaziPhotography-2015-5831-1
  Paragliding in Gangtok   पंछी की तरह खुले आकाश में पंख फैलाए उड़ान भरने की चाह किसके मन को नहीं लुभाती। और अगर यह चाह अपने साहस को तोलने की हो तो पैराग्लाइडिंग का अनुभव ज़रूर लेना चाहिए। भारत के पास हिमालय जैसा एक अनुपम और विशाल शाहकार है जिसके दामन में प्रकृति की शांत वादियां हैं तो उन्हीं वादियों में...

रोमांच और प्रकृति से जुड़ें -गिरी कैम्प सोलन

CampInHimachal_KaynatKaziPhotography_2015-31-1
Giri camp शहरी भाग दौड़ से भरी ज़िन्दगी में अगर बोरियत आ घेरे तो उसे दूर करने का सबसे सरल उपाय है कि कुछ दिन प्रकृति की गोद में गुज़ारे जाएं। जहां न कोई ऑफिस का ईमेल करने  की चिंता हो और न ही फेसबुक पर अपडेट करने की बेचैनी। एक ऐसी जगह जहां फ़ोन भी सिर्फ़ ज़रूरत भर का काम करे।...

Must Read

Art exhibition at Treehouse Hotel, Club and Spa, Bhiwadi, Rajasthan

 ARTOTEL-Edition 1, presented by Treehouse Hotels  “Past through the lens of the future” Interact.Express.Art-iculate Bhiwadi, November 20th, 2017: The Treehouse Hotels presented ARTOTEL- Edition 1 “Past through...