Home Hindi

Hindi

ऐसा नहीं है कि हिन्दी में अच्छे ब्लॉग लिखने वालों की कमी है। हिन्दी में लोग एक से एक बेहतरीन ब्लॉग्स लिख रहे हैं। पर एक चीज़ की कमी अक्सर खलती है। जहां ब्लॉग पर अच्छा कन्टेन्ट है वहां एक अच्छी क्वालिटी की तस्वीर नहीं मिलती और जिन ब्लॉग्स पर अच्छी तस्वीरें होती हैं वहां कन्टेन्ट उतना अच्छा नहीं होता। मैं साहित्यकार के अलावा एक ट्रेवल राइटर और फोटोग्राफर हूँ। मैंने अपने इस ब्लॉग के ज़रिये इस दूरी को पाटने का प्रयास किया है। मेरा यह ब्लॉग हिन्दी का प्रथम ट्रेवल फ़ोटोग्राफ़ी ब्लॉग है। जहाँ आपको मिलेगी भारत के कुछ अनछुए पहलुओं, अनदेखे स्थानों की सविस्तार जानकारी और उन स्थानों से जुड़ी कुछ बेहतरीन तस्वीरें।

उम्मीद है, आप को मेरा यह प्रयास पसंद आएगा। आपकी प्रतिक्रियाओं की मुझे प्रतीक्षा रहेगी। आपके कमेन्ट मुझे इस ब्लॉग को और बेहतर बनाने की प्रेरणा देंगे।

मंगल मृदुल कामनाओं सहित आपकी हमसफ़र आपकी दोस्त

डा० कायनात क़ाज़ी

weekend getaway series from Delhi-Pataudi Palace, Haryana

हर लिहाज़ से अनोखा है पटौदी पैलेस भारत में एक से बढ़कर एक रियासतें हुई हैं। आज भले ही राजा रजवाड़े नहीं रहे लेकिन उनके निशान अभी भी मिलते हैं। इस सीरीज़ में मैं आपको कुछ ऐसी ही रियासतों की सैर करवाने वाली हूँ। यह छोटी छोटी रियासतें आज भी अपने खानदानों की विरासतों को सहेजे हुए है। आप भले...

A complete guide to explore City of joy Kolkata, in 24 hours

Victoria Memorial-Kolkata-KaynatKaziPhotography
#Kolkata कोलकाता कुमारटुली जैसे ही मौसम थोड़ी सी करवट लेता है। और बारिश अपने बादलों को समेत कर चुपके से निकल जाती है वैसे ही फ़िज़ा मे हरश्रृंगार के फूलों की महक आने वाले त्योहारों का पैगाम ले आती है। हरश्रृंगार के फूल वाहक है उस संदेस के जो कहता है कि देश में त्यौहारों का मौसम वापस आया।शरद ऋतु के आगमन का...

रजिस्थानी आन बान और शान का प्रतीक -मारवाड़ फेस्टिवल

Marvad-Festival-3-960x636
रजिस्थानी आन बान और शान का प्रतीक -मारवाड़ फेस्टिवल   सर्दियों की आहट के साथ शुरू  होने वाला ये फेस्टिवल पूरे  सप्ताह तक चलता है। मारवाड़ फेस्टिवल हर साल सितंबर-अक्टूबर माह में मनाया जाता है। यह हिन्दू कैलेण्डर के अश्विन माह में मनाया जाता है। सप्ताह भर चलने वाले इस उत्सव का समापन शरद पूर्णिमा को रेगिस्तान का द्वार कहे...

Visit the town of Heritage Havelies in Mandawa, Rajasthan

Heritage Haweli-Mandawa-Kaynat Kazi Photography-2014
रूट: दिल्ली-बहादुरगढ़-झज्जर-चरखी दादरी-लोहारू-जुनझुनु-मंडावा 233 किलोमीटर 5-6 घंटों की यात्रा बाई रोड मंडावा जाना एक लंबे समय से मेरी विश लिस्ट मे था।  इस जगह के बारे मे मैंने बहुत सुना था।  कहते हैं यह जगह बहुत अनोखी है। राजस्थान के झुनझुनु जिले मे पड़ने वाला एक छोटा सा टाउन पूरे विश्व मे बड़ी प्रसिद्धी रखता है। आख़िर क्यूँ? मेरे मन मे सवाल...

मॉनसून मज़ा@ सिंहगढ़ फोर्ट

Singhagad-Fort
मॉनसून मज़ा@ सिंहगढ़ फोर्ट, पुणे, महाराष्ट्र    Add caption   अगर आप भारत में मॉनसून का मज़ा लेना चाहते हैं तो वेस्टर्न घाट ज़रूर जाएं। भारत के पश्चिमी तट पर स्थित पर्वत शृंखला को पश्चिमी घाट कहते है। दक्‍कनी पठार के पश्चिमी किनारे के साथ-साथ यह पर्वतीय शृंखला उत्‍तर से दक्षिण की तरफ 1600 किलोमीटर लम्‍बी है। विश्‍व में जैविकीय विवधता के लिए यह...

इस मॉनसून क्यों जाएँ ? मिरिक

Mahananda-Wildlife-Sanctuary_Kaynatkazi-photography_North-east_June-2015_Travel-Pics-3-of-21-2
    Mirik town from Hill top    बरसात के मौसम में मिरिक बेहद खूबसूरत और हरा भरा नज़र आता है। अगर आप एडवेंचर के शौक़ीन हैं तो एक बार मिरिक बरसात में ज़रूर जाएं। प्रकृति के बेहद हसीं करिश्मे देखने को मिलेंगे। कभी बादल इतने निचे आजाएगा कि आप उसके बीच से होकर गुज़र जाएँगे। रास्तों में जगह जगह बरसाती झरने आपका स्वागत...

दिलकश नज़ारे दार्जिलिंग के

Darjeeling-KaynatKaziPhotography-2015-8452-960x636
दिलकश नज़ारे दार्जिलिंग के Beautiful landscape of Darjeeling दार्जिलिंग की वादियां जितनी हसीन और दिलकश हैं उससे भी ज़्यादा दिलफ़रेब वहां तक पहुंचने का रास्ता है। हिमालयन रेलवे की छोटी लाइन पर चलने वाली खिलौना रेल गाड़ी जिसे ‘टॉय ट्रेन’ भी कहते हैं न्यू जलपाईगुड़ी से दार्जिलिंग पहुंचने का बहुत पुराना और सैलानियों का पसंदीदा तरीका है। वैसे न्यू जलपाईगुड़ी से...

My unforgettable journey to discover Himalaya through the paintings of Nicholas Roerich at Naggar

दिल्ली में रहने वाले वैसे तो अपनी दिल्ली को इतना प्यार करते हैं कि अकसर यही कहते सुने जाते हैं कि कौन जाय ज़ौक़ दिल्ली की गलियाँ छोड़कर दिल्ली है ही ऐसे दिल फ़रेब जगह। यहाँ जो एक बार आ जाता है बस यहीं का होकर रह जाता है उसके लिए इन गलियों को छोड़कर जाना हमेशा के लिए नामुमकिन हो...

एक मुलाक़ात सांस्‍कृतिक विरासत से-इन्दिरा गांधी राष्ट्रीय मानव संग्रहालय-भाग -1

Manav-Sangrahalay_tribal-_-bhopal1
एक मुलाक़ात सांस्‍कृतिक विरासत से Part-1 Gate No.1 Indira Gandhi Rashtriya Manav Sangrahalaya   मैं जब छोटी थी और अपनी सामाजिक विज्ञान और भूगोल की किताबें पढ़ा करती थी तब उन किताबों मे बने अलग अलग प्रदेशों के लोगों, उनके घर, उनका जीवन, उनके रहन सहन की वस्तुएँ देख कर हमेशा चमत्कृत हुआ करती थी. मैं अपने ख़यालों की छोटी-सी दुनिया मे उन...

चश्मे, चिनार, गार्डेन्स और डल लेक आठ घंटों मे…

Kashmir_KaynatKaziPhotography_2015-213
Kashmir day-2  इस श्रंखला की पिछली पोस्ट पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें : कश्मीर पहला दिन  कश्मीर दूसरा दिन   Route Map-Places near Dal Lake   चश्मे, चिनार, गार्डेन्स और डल लेक आठ घंटों मे...   कश्मीर मे मेरा आज यह दूसरा दिन है। हमने फैसला किया कि आज श्रीनगर घूमा जाए। सुबह से लेकर शाम तक के आठ घंटों मे आधा श्रीनगर देखना है। श्रीनगर...

Must Read

Ladakh in winters

बर्फ की चादर में लिपटा - लद्दाख क्या आप मानेंगे कि लद्दाख सबसे खूबसूरत सर्दियों में लगता है जब बाहर माइनस 14 डिग्री तापमान में जब हर...