Meghalaya Tourism presents- The Meghalayan Age Festival,2020

Meghalaya Tourism presents- The Meghalayan Age Festival,2020
What: 'The Meghalayan Age- 2020’ When: 7th – 15th of March,2020 Where: Shillong, Meghalaya ABOUT THE MEGHALAYAN AGE - 2020 We live in a fast-paced age, laden with distractions and blink-of-an-eye manufactured experiences. In the midst of this, travel is the much-needed panacea to find meaning in this blur of duties and responsibilities. Discerning travellers yearn authenticity and untrodden paths – looking for life-changing...

A showcase of exotic handicrafts by women of Rural India-Saras Mela 2017

-women empowermentFemale Articians of Rural India-©Kaynat Kazi Photography-www.rahagiri.com (16 of 27)
हुनरमंद महिलाओं के संघर्ष की दास्ताँ - सरस मेला-2017 हर साल दिल्ली में आयोजित ट्रेड फेयर में देश दुनिया से आए हुनरमंदों की कला के दर्शन होते ही हैं लेकिन इस बार कुछ ऐसा देखने को मिला जिसकी चर्चा किये बिना नहीं रहा जा सकता है। अलग-अलग राज्यों के पेवेलियन के बीच मुस्कुराते स्टॉल सरस मेला 2017 का हिस्सा हैं। इन...

Much awaited Saputara Monsoon Festival begin from August 4

             Bedecked in monsoon glory, Gujarat’s hill station awaits visitors with a range of fun-filled activities during the month-long festival Saputara, August 4: It’s that time of the year when the monsoon weaves its magic across the country and makes every place look beautiful. The state of Gujarat too is all decked up in the glory of monsoon and...

Bonderam festival of south Goa in monsoon

The feast of Bonderam is celebrated on the fourth Saturday of August every year at Divar Island, 12-km from Panjim. The name Bonderam revolves around the involvement of flags which in itself is an interesting story.   The "Bonderam" festival is celebrated on the Island of Divar on the fourth Saturday of August every year. The word "BoNnderam" originated from the...

Gujarat’s new Dinosaur Informatics Centre and Museum tells the hidden story of the state’s fossilized past

डायनासोर के ऐतिहासिक जीवाश्म की छिपी हुई कहानी सुनाता है गुजरात का नया डायनासोर इंफॉर्मेटिक्स सेंटर और म्यूजियम गुजरात केवल अपनी समृद्ध सभ्यता-संस्कृति, कला, शिल्प, मेलों, त्योहारों और मुंह में पानी लाने वाली डिशेज के लिए ही मशहूर नहीं है। इस राज्य के अतीत में कई रहस्यात्मक पहलू भी छिपे हुए हैं। कई लोगों को यह पता भी नहीं होगा...

This summer visit Ranthambore National Park to experience a vast wildlife reserve in Sawai Madhopur in Rajasthan

रणथम्बोर टाइगर रिज़र्व हम सभी ने अपने बचपन में टाइगर को चिड़िया घर में  देखा होगा। जंगल के राजा शेर को सर्कस के पिंजरे में दहाड़ते हुए भी देखा होगा पर जंगली जानवरों को खुले जंगल में देखना बहुत अलग अनुभव है। जंगल की प्राकृतिक छठा में  टाइगर को राजा की तरह शान से विचरण करते हुए देखना एक अदभुत...

Happy Basant Panchami-2018

happy-basant-panchami-2018
सभी मित्रों को बसंत पंचमी की ढ़ेर सारी शुभकामनाएं   वैसे तो बसंत पंचमी पूरे भारत में मनाई जाती है लेकिन इसका जितने ज़ोरो शोर से स्वागत बंगाल में होता है इतना कहीं और देखने को नहीं मिलता। माँ शारदे के स्वागत में पूरा कुमारटुली जनवरी के शुरू होते ही जुट जाता है। आपको बता दूँ कि कोलकाता का कुमारटुली एक ऐसा...

why I love the Gangtok city in sikkim

Sikkim-Madhya Pradesh-©Kaynat Kazi Photography-www.rahagiri.com (60 of 107)
गंगटोक भारत के सबसे छोटे प्रदेश सिक्किम की राजधानी है गंगटोक। हिमालय के उत्तरी दामन में बसा है यह खूबसूरत शहर गैंगटॉक। इसलिए वर्ष भर यहाँ प्रकृति की बहार देखने को मिलती है। चाहे वो गर्मी हो या सर्दी हर मौसम अपने साथ कुछ अनोखा लेकर आता है। वैसे तो सिक्किम पूरा का पूरा देखने लायक़ है। लेकिन आज हम...

A holy city in the middle of mountains-Namchi, Sikkim

Budha Park-Namchi-Sikkim-©Kaynat Kazi Photography-www.rahagiri.com (20 of 107)
पहाड़ों से घिरा एक आध्यात्मिक शहर-नाम्ची सिक्किम नामची दक्षिणी सिक्किम मे पड़ने वाला एक बेहद हसीन और खूबसूरत शहर है.यह शहर पहाड़ों के बीच बसा है और यह चारों ओर से ख़ूबसूरत पहाड़ियों से घिरा हुआ है। यह समुद्र तल से 1,675 मीटर की ऊंचाई पर है। नामची गंगटोक से लगभग 92 किलोमीटर और सिल्लीगुड़ी से 90 किलोमीटर की दूरी...

My unforgettable journey to discover Himalaya through the paintings of Nicholas Roerich at Naggar

दिल्ली में रहने वाले वैसे तो अपनी दिल्ली को इतना प्यार करते हैं कि अकसर यही कहते सुने जाते हैं कि कौन जाय ज़ौक़ दिल्ली की गलियाँ छोड़कर दिल्ली है ही ऐसे दिल फ़रेब जगह। यहाँ जो एक बार आ जाता है बस यहीं का होकर रह जाता है उसके लिए इन गलियों को छोड़कर जाना हमेशा के लिए नामुमकिन हो...

Must Read

Meghalaya Tourism presents- The Meghalayan Age Festival,2020

Meghalaya Tourism presents- The Meghalayan Age Festival,2020

What: 'The Meghalayan Age- 2020’ When: 7th – 15th of March,2020 Where: Shillong, Meghalaya ABOUT THE MEGHALAYAN AGE - 2020 We live in a fast-paced age, laden with distractions...